Promotion
Bhatakti hai hawas din-raat 5/5 (1)

भटकती है हवस दिन-रात सोने की दुकानों में,
ग़रीबी कान छिदवाती है तिनका डाल देती है!

मुनव्वर राना

Please rate this

Leave a Reply