Promotion
mai apne ghar me ajnabi-Gulzar 5/5 (2)

mai apne ghar me ajnabi-Gulzar

मैं अपने घर में ही अजनबी हो गया हूँ आ कर
मुझे यहाँ देखकर मेरी रूह डर गई है
सहम के सब आरज़ुएँ कोनों में जा छुपी हैं
लवें बुझा दी हैंअपने चेहरों की, हसरतों ने
कि शौक़ पहचनता ही नहीं
मुरादें दहलीज़ ही पे सर रख के मर गई हैं
मैं किस वतन की तलाश में यूँ चला था घर से
कि अपने घर में भी अजनबी हो गया हूँ आ कर

Gulzar best shayari in hindi
best shayari page on facebook
mai apne ghar me ajnabi-Gulzar-Gulzar Best Shayari in Hindi lyrics

 

Gulzar best shayari in hindi
best shayari page on facebook

 

Please rate this

Leave a Reply