Promotion
Udhne do parindon ko abhi 5/5 (1)

उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में…
फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते!

……….. बशीर बद्र

Please rate this

Leave a Reply