Promotion
Ab to apne hi gamo par – Umang 5/5 (1)

अब तो अपने ही गमों पर हंसी आने लगी है,
जिन्दगी न जाने कैसे कैसे रंग दिखाने लगी है ।।

…….. उमंग माहेश्वरी

Please rate this

Leave a Reply