Promotion
Kyun na hum apne dard – सुमित बड़जात्या No ratings yet.

क्यूं ना हम अपने दर्द को तुम्हारे दर्द से जोड़ दे इस क़दर, 
कि तुम्हारा दर्द और हमारा दर्द मिलकर हमदर्द हो जाएं! 

…….. सुमित बड़जात्या

Please rate this

Leave a Reply