Promotion
Mera chain, meri neend – Raushan kumar 5/5 (1)

मेरा चैन, मेरी नींद, मेरे मन का करार तो लुट जाने दो
उनकी ख्वाहिश है कि मैं दर्द लिखूं
लिखूंगा पहले दिल तो टूट जाने दो! 

……. Raushan kumar

Please rate this

Leave a Reply