Promotion
Ye zindagi ke raste – Shailendra Sharma No ratings yet.

ये ज़िन्दगी के रास्ते नफ़स नफ़स में रेंगते, 
सफ़र सफ़र की धूल का गुबार है ये कारवाँ, 
न जाने किस हिसार में विसाल फिर नसीब हो, 
जो रु-ब-रु हैं आज हमें तो दिल की बात हो यहाँ! 

…… Shailendra Sharma

Please rate this

Leave a Reply