Promotion
Raah ke patthar se badh ke 5/5 (1)

राह के पत्थर से बढ के, कुछ नहीं हैं मंजिलें,
रास्ते आवाज़ देते हैं, सफ़र जारी रखो…

…………….. राहत इंदौरी

Please rate this

Leave a Reply