Promotion
Seekh raha hoon duniya ke – Pankaj Shukla 5/5 (1)

सीख रहा हूँ दुनिया के तौर तरीके रोजाना
कभी खुद को रुला कर दूसरो को हँसाना
पर आज भी अनजान हूं तो सिर्फ तेरे इरादों से
बन्द क्यों नई कर देती तू मुझे आजमाना

…….. पंकज शुक्ला

Please rate this

Leave a Reply